Tuesday, March 2, 2010

हिन्दू मुस्लिम भाई - भाई की ---- जागरूकता लाये

हिन्दू मुस्लिम भाई - भाई तो ये सब बाते कहा से आई , भाई आप हिन्दू है और मै............................... तो फर्क क्या , है तो इंसान न , हमारे भी दो हाथ पैर और उनके भी , वो अल्ला अल्ला बोलते है हम हे प्रभु परमात्मा ................ दोनों को किसी ने नहीं देखा दोनों के संदेसो की व्याख्या करे तो एक ही बनती है , ये तो धर्म गुरुयो ,राजनीतिज्ञों ,तथाकथित समाज के ठेकेदारों का बनाया हुआ संदेस है ! जो हमें आपस में बाट कर अपना फ्ह्यदा अंगेजो के फूट डालो राज करो की सिखाई निति पर चल कर करते है , हमें इसको और इससे दूर रहने समाज में जागरूकता लाने की आवश्कयता है हमें मुस्लिम बुध्धि जीवियो को साथ ले कर भारत से उनकी जीविका रोजी रोटी और रिश्तो की दुहाई- सच्चाई बता कर रास्ट्र प्रेम अवम रास्ट्र के प्रति कर्त्याव्यो का बोध करना होगा तभी भारत विश्व गुरु बन सिरमोर्य बन पायेगा ....................... तो आएये आज से इसकी शुरुवात करे और एक एक मुस्लिम बुध्धि जीवियो को साथ ले रास्ट्र कर्म प्रारंभ करे !

5 comments:

mohamd husein jakariya said...

vah vah maja aa gaya ajay bhisaheb aapne des prem ki bat kar holi or eed ke bhartiy tyoharo ko ek sath manane ke utsah ko pradarsit kiya hai

Udan Tashtari said...

धर्म गुरुयो ,राजनीतिज्ञों ,तथाकथित समाज के ठेकेदारों को दर किनार कर दें तो यूँ भी सभी भाई चारे से ही रह रहे हैं.

Suman said...

nice

ajay saxena said...

बने काहथस सगा ...

श्याम कोरी 'उदय' said...

...जागरुकता अत्यंत आवश्यक है !!!

Post a Comment